Tuesday, December 11, 2018

RSCIT Book Lesson- 10. (Working with Mobile Device/ Smartphone "मोबाइल डिवाइस स्मार्टफोन के साथ कार्य करना") Notes In Hindi 2019

RSCIT Book Lesson- 10. (Working with Mobile Device/ Smartphone "मोबाइल डिवाइस स्मार्टफोन के साथ कार्य करना") Notes In Hindi 2019 :- We Are Share Notes of RSCIT Official Book Lesson No. 10. In Hindi Language, So Read and Get High Marks In RSCIT Exam.

Rscit Book Lesson | Rscit Book Lesson Notes | Rscit Book Lesson Notes Number 10 | Rscit Book Lesson Notes Number 10 In Hindi | Notes Of Rscit Book In Hindi | Rkcl New Book Notes In Hindi Lesson 10 | Rscit New Book Notes In Hindi Lesson | Notes Of Rscit Book Lesson 10 | Download Rscit Notes | Rscit Book Notes In Hindi Pdf | Lesson -10 | Part- 1 And 2.

Notes Of Rscit Book In Hindi, Notes Of Rscit Book Lesson 10, Rkcl New Book Notes In Hindi Lesson 10, Rscit Book Lesson Notes, Rscit Book Lesson Notes Number 10 In Hindi, Rscit New Book Notes In Hindi,
RSCIT Book Lesson- 10. (Working with Mobile Device/ Smartphone "मोबाइल डिवाइस स्मार्टफोन के साथ कार्य करना") Notes In Hindi 2019

नोट :- अगर आप इस RSCIT Notes को वीडियो के माध्यम से समझना चाहते हैं, तो हमने इस पोस्ट के बिल्कुल अंत में आपके लिए एक अच्छा सा वीडियो भी जोड़ा है। तो अगर आपको वीडियो देख कर पढ़ना आसान लगता है, तो कृपया करके आप वीडियो को इस पोस्ट के बिल्कुल अंत में जाकर देख सकते हैं।


मोबाइल डिवाइस स्मार्टफोन के साथ कार्य करना (Working with Mobile Device/ Smartphone) :

मोबाइल प्रौद्योगिकी ने हमारे काम करने का तरीका बदल दिया है। एवं क्रांतिकारी परिवर्तन किए हैं। मोबाइल प्रौद्योगिकी मैं प्रगति के कारण लोग अब हमेशा जुड़े होते हैं। और कहीं भी, कभी भी कार्य कर सकते हैं। लोग अब मोबाइल के माध्यम से चाहे दिन हो या रात, कार्य को शेयर कर रहे हैं। परस्पर सहयोग कर रहे हैं। 

इस अध्याय में हम मोबाइल उपकरणों, मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम, मोबाइल पर एप और राजस्थान के नागरिकों के लिए कुछ उपयोगी एप की चर्चा एवं अध्ययन करेंगे। 


➤ हैंडहेल्ड डिवाइस के प्रकार (Types of Handheld Devices) :
 बाजार में कई मोबाइल उपकरण उपलब्ध हैं। हालांकि इस खंड में केवल कुछ लोकप्रिय उपकरणों पर ही चर्चा की जाएगी। 

➧ फीचर फोन (Feature phone) : यह अपने नाम के बिल्कुल ही विपरीत होते हैं। इनके अंदर बहुत सीमित फंक्शन दिए होते हैं। फीचर फोन आमतौर पर वॉइस कॉलिंग और टेक्स्ट मैसेज के अलावा बेसिक मल्टीमीडिया और इंटरनेट फीचर और आपके वायरलेस सेवा प्रदाता द्वारा प्रदान की जाने वाली अन्य सेवाओं की सुविधा प्रदान करते हैं। फीचर फोन को स्मार्ट फोन के कम लागत वाले विकल्प के रूप में पेश किया जाता है। विशेष रूप से उभरते बाजारों में। 

➧ स्मार्टफोन (Smart phone) : स्मार्टफोन एक मोबाइल है, जो कंप्यूटर के कई कार्यो को करने की क्षमता रखता है। इसमें आमतौर पर 1 टचस्क्रीन इंटरफेस, इंटरनेट एक्सेस और डाउनलोड किए गए एप्स चलाने में सक्षम एक ऑपरेटिंग सिस्टम होता है। स्मार्टफोन में इंटरनेट ब्राउजर कर सकते हैं। और कंप्यूटर की भांति बुनियादी सॉफ्टवेयर प्रोग्राम चला सकते हैं। एक डेस्कटॉप या लैपटॉप कंप्यूटर के समान ही स्मार्ट फोन पर भी एक ऑपरेटिंग सिस्टम होता है। स्मार्टफोन सुविधा और क्षमताओं के साथ आपको डिलीवर किए जाते हैं।

➧ टेबलेट (Tablet) : एक टेबलेट को टेबलेट कंप्यूटर या टेबलेट पीसी के रूप में भी जाना जाता है। एक टेबलेट मोबाइल कंप्यूटिंग डिवाइस है। यह आमतौर पर एक पुस्तक के आकार का होता है। और एक बड़े स्मार्टफोन के समान होता है। एक टेबलेट लैपटॉप या नोटबुक कंप्यूटर और एक पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट के बीच की एक कड़ी है। इसके साथ इंटरनेट कनेक्ट किया जा सकता है। और इसमें भी डेस्कटॉप या लैपटॉप कंप्यूटर की तरह ऑपरेटिंग सिस्टम होता है।

➧ फेबलेट (Phablets) : एक कंप्यूटिंग डिवाइस है। जिसे तिरछा मापा जाए तो स्क्रीन का आकार 4 और 7 इंच के बीच होता है। जैसा कि नाम से पता चलता है। यह डिवाइस अनिवार्य रूप से एक टेबलेट है, जो फोन के रूप में भी कार्य करता है। हालांकि उपकरण का छोटा आकार, उपयोगकर्ताओं को इसे जेबों या छोटे बैग में ले जाने में आसान बनाता है। जैसा कि स्मार्टफोन के साथ तथागत है। लेकिन टेबलेट के साथ आमतौर पर संभव नहीं है फोन के अलावा एक फेबलेट में आमतौर पर एक टेबलेट की सभी सुविधाएं होती हैं। जैसे टचस्क्रीन, एक वर्चुअल कीबोर्ड, एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम, ब्राउजर, वेब कैमरा इत्यादि।

➤ लोकप्रिय मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार (Types of popular mobile operating systems) :
एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम जिसे एक मोबाइल ओएस भी कहा जाता है, एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो मोबाइल फोन, स्मार्ट फोन, पीडीए, टेबलेट कंप्यूटर और अन्य हैंड हेल्ड डिवाइस, जैसे मोबाइल उपकरणों पर विशेष रूप से चलाने के लिए डिजाइन किया गया है। आधुनिक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम टच स्क्रीन, ब्लूटूथ, जीपीएस, वाईफाई कैमरा, म्यूजिक प्लेयर, और पर्सनल डिजिटल के साथ पर्सनल कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम की सुविधा से जुड़ा होता हैं।

➯ एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम (Android operating system) : लिनक्स कर्नल पर बना यह ऑपरेटिंग सिस्टम गूगल ने बनाया है। जो कि बहुत से मोबाइल उपकरणों में चलता हुआ मिल जाता है।
Android एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है। जिससे प्रोग्राम में अपनी सुविधा अनुसार बदल सकते हैं। एंड्रॉएड वर्तमान में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है। गूगल ने "एस्ट्रो" (ASTRO) के नाम से सितंबर 2008 में पहली एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम को रिलीज किया। कुछ समय बाद अगले अपग्रेड वर्जन - Bender, Cupcake जारी किए गए और इसके बाद गूगल ने वर्णमाला क्रमानुसार में किसी भी मीठे व्यंजन/ मिठाई के ऊपर एंड्रॉयड संस्करण के नामकरण को अपनाया।
इसके बाद - Donut, Eclair, Froyo, Gingerbread, Honeycomb, Ice cream Sandwich, Jelly Bean, Marshmallow, और नवीनतम वर्जन Android Nougat 7.0 है।

➯ विंडोज फोन ओएस (Windows phone OS) : हममें से अधिकांश विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम से परिचित हैं जो दुनिया भर के अधिकांश कंप्यूटरों में उपयोग किया जाता है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा रिलीज किया गया है। विंडोज फोन ओएस ने विंडोज मोबाइल ओएस को बदल दिया और वर्तमान विंडोज डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम में इसी नाम योजना का पालन किया जाता है।
उदाहरण के लिए विंडो फोन 7, 8 और 8.1 इत्यादि।

➯ एप्पल आईओएस (Apple IOS) : एप्पल आईओएस मल्टी टच, मल्टी टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है जो एप्पल के आईफोन, आईपैड और आईपॉड को चलाता है। सॉफ्टवेयर का एक विशेष संस्करण है जो एप्पल वॉच को भी संचालित करता है। एप्पल आईओएस को तीसरे पक्ष के सिस्टम उपयोग करने की इजाजत नहीं है। इसलिए आप केवल एप्पल द्वारा बनाए गए उत्पादों पर इसका उपयोग करने में सक्षम होंगे। इसमें इंटरनेट एक्सेस करने के लिए सफारी वेब ब्राउज़र का उपयोग किया जाता है।

➤ स्मार्ट फोन पर गूगल प्ले को कॉन्फ़िगर करना (Configuring Google Play on a Smart Phone) : एंड्रॉयड आधारित स्मार्टफोन पर अपने जीमेल अकाउंट को पंजीकृत करना, गूगल प्ले को कॉन्फ़िगर करने के रूप में जाना जाता है। गूगल प्ले स्टोर तक पहुंचे बनाने के लिए आपको अपने गूगल खाते को पंजीकृत करना होगा। आप अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर अपना गूगल प्ले खाता सेटअप कर सकते हो। जो कि बहुत ही आसान होता है।
इसके बाद आप गूगल प्ले को ओपन करके इसमें सर्च बटन से कोई भी एंड्रॉयड एप्लीकेशन सर्च कर सकते हो। इसमें एंड्रॉयड एप्लीकेशन खोजने के लिए भिन्न-भिन्न कैटेगरी होती है। उनके हिसाब से आप अपनी एप्लीकेशन फाइंड कर सकते हो जो कि बहुत ही आसान होता है।

➤ मोबाइल के बीच फाइल शेयर करना "शेयर इट" (Share File Between Mobile "Share It") :
"शेयर इट" दो या दो से अधिक डिवाइसों के बीच फाइलों को स्थानांतरित करने के लिए एक लोकप्रिय एप्लीकेशन में से एक है। कुछ वर्षों पहले लोग ब्लूटूथ का इस्तेमाल, दोनों के बीच फाइलों को ट्रांसफर अर्थात भेजने के लिए किया करते थे। लेकिन ब्लूटूथ की ट्रांसफर दर बहुत धीमी है। इसलिए लोगों को डाटा ट्रांसफर करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता था। लेकिन अब "शेयर इट" विकसित किया गया है। जो हमें दूसरे अनुप्रयोगों की अपेक्षा फास्ट ट्रांसफर दर पर फाइलों को ट्रांसफर करने की इजाजत देता है।
इसे आप गूगल प्ले स्टोर से आसानी से डाउनलोड कर सकते हो।


➤ रास्ता खोजने के लिए गूगल मैप का उपयोग करना (Using Google Maps to find a way) : 
गूगल मैप एक सुविधाजनक, विश्वसनीय और उपयोगी उपकरण है, जो उपयोगकर्ताओं को एक स्थान से किसी भी दूसरे चुने गए गंतव्य के लिए अपना रास्ता खोजना त्वरित और आसान बना देता है। गूगल मैप आपके मोबाइल में होता है। अगर नहीं है तो, आप इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड भी कर सकते हैं। और आसानी से इसके अंदर किसी जगह को खोज सकते हैं या फिर रास्ता देख सकते हैं।

यह बहुत सारी जरूरी बातें भी हमें बताता है जैसे हमारे गंतव्य के बीच कितनी दूरी है, कितने रास्ते हैं, कितना समय पैदल जाने में लगेगा, कितना समय साइकिल पर जाने में लगेगा, कितना समय विमान में लगेगा, इस प्रकार की बहुत सारी ऑप्शन के कारण यह हमें बहुत ही अच्छा डाटा प्रदान करता है।


➤ सेटिंग पैनल (Setting Panel) :
ब्लूटूथ/ जीपीएस/ मोबाइल डाटा /वाईफाई आदि। -



➯ ब्लूटूथ (Bluetooth) - ब्लूटूथ, फिक्स और मोबाइल डिवाइस से छोटी दूरी पर डाटा शेयरिंग करने के लिए वायरलेस तकनीक मानक है। यह हमारे मोबाइल में होता है। इसके द्वारा हम लगभग 30 से 33 फीट की दूरी तक डाटा ट्रांसफर कर सकते हैं।


➯ जीपीएस (GPS) - आपके फोन पर लोकेशन या जीपीएस (पूरा नाम- ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) सेवा कई चीजों के लिए बहुत उपयोगी है। यह हमारी लोकेशन ट्रैक करके हमें बता सकता है कि, हम गूगल मैप में किस स्थान पर हैं। और यह हमें नेविगेशन भी प्रदान करता है।

➯ मोबाइल डाटा (Mobile Data) - आमतौर पर जब भी हम अपने मोबाइल के अंदर इंटरनेट शुरू करते हैं तो हमें मोबाइल डाटा ऑन करना पड़ता है।

➯ वाईफाई (Wi-Fi) - वाईफाई (Wireless Fidelity) एक वायरलेस इंटरनेट कनेक्शन है। जिसका उपयोग आप अपने मोबाइल डिवाइस पर इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए कर सकते हैं। आप इसे अपने मोबाइल की सेटिंग से ऑन कर सकते हो।

➤ एक स्क्रीन लॉक सेट करना (Setting up a screen lock) :
हमारे मोबाइल में भिन्न भिन्न प्रकार के स्क्रीन लोग होते हैं। जिसके कारण हम अपने मोबाइल को एक प्राइवेसी एरिया में रखते हैं। आप सेटिंग ऑप्शन से अपने मोबाइल में स्क्रीन लॉक सेट कर सकते हो यह कई प्रकार के होते हैं। जैसे -
कोई नहीं - इस ऑप्शन में आपके मोबाइल पर कोई भी स्क्रीन लॉक नहीं लगेगा।
स्वाइप - यह लॉक लगाने पर आपको अपने मोबाइल की स्क्रीन को स्वाइप करके अनलॉक करना पड़ेगा।
पैटर्न - यह नौ बिंदुओं की एक श्रंखला के साथ एक विशिष्ट पैटर्न का उपयोग करके डिवाइस को अनलॉक करता है।
पिन - यह सिस्टम आपको स्क्रीन को अनलॉक करने के लिए पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर (PIN) चुनने का विकल्प देता है।
पासवर्ड - आप अपने खुद के पासवर्ड का चयन कर सकते हैं। जिसे आप डिवाइस अनलॉक करने के लिए उपयोग कर सकें।

➤ मोबाइल हॉटस्पॉट को कॉन्फ़िगर करना :
मोबाइल हॉटस्पॉट, आपको अपने वायरलेस नेटवर्क कनेक्शन को अन्य उपकरणों के साथ साझा करने की अनुमति देता है। ताकि वह इंटरनेट एक्सेस कर सकें।


➤ राजस्थान के नागरिकों के लिए उपयोगी एप्स (Useful Apps for the citizens of Rajasthan) : 


यहां पर बताए गए सभी ऐप को आप उनके नाम से गूगल प्ले स्टोर में सर्च करके डाउनलोड कर सकते हो

➯ राजस्थान संपर्क - यहां पर आप अपनी शिकायतों को दर्ज कर सकते हो और उनका निवारण ले सकते हो।
➯ ई-मित्र - आप अपने मोबाइल में ई-मित्र ऐप को डाउनलोड करके इसका लाभ उठा सकते हो
➯ भामाशाह योजना - भामाशाह के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए यह आपके लिए काफी लाभदायक है।➯ ईपीडीएस एप - इस ऐप द्वारा आप जान सकते हैं स्टॉक की व्यवस्था, लेनदेन का इतिहास, दैनिक लेनदेन रिपोर्ट इत्यादि।
➯ राज एप सेंटर - राजस्थान सरकार के लिए केंद्रीकृत एप्लीकेशन की सूची है। आप वे सभी एप इंस्टॉल कर सकते हैं जो (DOIT) राजस्थान सरकार से संबंधित एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म के लिए उपलब्ध है।

इसके अलावा कुछ लोकप्रिय एप जैसे- व्हाट्सएप मैसेज यह वॉइस कॉल, वीडियो कॉल और चैट करने के काम आता है। इसी के साथ फाइल मैनेजर इत्यादि एप आप प्ले स्टोर पर सर्च कर सकते हो। जो कि आपके मोबाइल के साथ आपका काम और भी आसान कर देती है।



हमने आपके लिए अध्याय 10 के सभी नोटस की वीडियो बनाई है आप चाहे तो इन वीडियो को भी देख सकते हैं।
Part-1

Part- 2


आपको ये  RSCIT Book Lesson- 10. (Working with Mobile Device/ Smartphone "मोबाइल डिवाइस स्मार्टफोन के साथ कार्य करना") Notes In Hindi 2019. कैसा लगा। अगर आप RSCIT Book के Other Lessons के Notes पढ़ना चाहते हैं तो, हम RSCIT Book के सभी Lessons के नोट्स आपको प्रदान करेंगे। हम आशा करते हैं की आप इस नोट्स को अपने RSCIT Friends के साथ जरूर शेयर करेंगे।

LearnRSCIT.com RSCIT Students के लिए हैं। यहाँ वो सब आपको मिलेगा। जिसके कारण आप आपने RSCIT Exam में अच्छे नंबर ला सकेंगे।

Thank u So Much, Have a Nice Day.

Rscit Book Lesson | Rscit Book Lesson Notes | Rscit Book Lesson Notes Number 10 | Rscit Book Lesson Notes Number 10 In Hindi | Notes Of Rscit Book In Hindi | Rkcl New Book Notes In Hindi Lesson 10 | Rscit New Book Notes In Hindi Lesson | Notes Of Rscit Book Lesson 10 | Download Rscit Notes | Rscit Book Notes In Hindi Pdf | Lesson -10 | Part- 1 And 2.
loading...